Advertisement

Friday, November 23, 2018

प्यार में टूटे दिल को एकबार यह बात ज़रुर समझाना, नही तो होगी बहुत तकलीफ़।

www.lovesitzone.in
 प्यार एक बहुत ही अनोखा एहसास है जो सभी महसूस करते हैं लेकिन प्यार को समझना या निभाना और उसे एक सही दिशा में ले जाना बहुत कम ही ऐसा कर पाते हैं। कुछ लोगो का प्यार ज़िन्दगी भर उनके साथ बना रहता है लेकिन कुछ ऐसे लोग भी हैं,
जो लोग अपने प्यार को बनाए रखने के लिए बहुत कोशिश करते हैं लेकिन ऐसा बहुत ही कम हो पाता है जिसकी वजह से उनका दिल और प्यार दोनों एकसाथ टूट जाते हैं। लेकिन दोस्तों जो आपके प्यार को नही समझता उससे दूर रहना ही सही होता है क्योंकि प्यार होने के लिए इच्छा का होना भी ज़रूरी है लेकिन बहुत से लोग हैं जिनका प्यार की वजह से दिल टूट जाता है फिर खुद को भी प्यार के लिए मना पाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए दोस्तों, अगर आपका भी दिल टूटा है तो आज मैं आपको जो भी बात बताऊंगा उसको ज़रूर याद रखना और शेयर भी करना।
दोस्तों, अंग्रेजी की एक वर्ड है, Heart Break, दिल टूटना!
बचपन में इसकी परिभाषा बिलकुल अलग थी, लेकिन जैसे- जैसे बड़े हुए इसकी परिभाषा बदलती गयी।  जैसे-
बचपन में कोई खिलौना नही मिला जिससे हम खेलना चाहते हैं, दिल टूट गया (Heart Break)
थोड़े और बड़े हुए तो बेस्ट दोस्त ने कुछ कह दिया, (Heart Break)
लेकिन उसके कुछ समय बाद बड़े हुए और फिर प्यार हुआ और फिर ब्रेकअप!
फिर पता चला कि ब्रेकअप का मतलब क्या होता है।
मैं अच्छे से समझता हूँ कि ब्रेकअप होने के बाद रहना कितना मुश्किल होता है। दोस्त समझते हैं किस्मत ख़राब थी,वह तुम्हारे लायक नही थी या वह तो सुंदर दिखती ही नही थी। लेकिन कुछ भी कह लो दर्द कम ही नही होता। इस अकेलेपन का कारण-

  • अकेलापन
  • लगाव
  • या स्वार्थ भी हो सकता है कि उसने मुझे कैसे छोड़ दिया।

कारण कुछ भी हो दोस्तों लेकिन दिल दुखता है। फिर आप फेसबुक लव स्टोरी डालते हैं और कोई सोशल साइट्स पर लोगों से बात करके अपने दर्द को कम करने की कोशिश करता है। तो कोई खुद को व्यस्त करने के लिए म्यूजिक, गानें या और भी रास्ते अपनाता है अपने आपको व्यस्त रखने के लिए। अलग- अलग तरीके अपने दर्द को कम करने के लिए अपनाये जाते हैं लेकिन यह सब क्या है? यह सब एक तुरन्त के मरहम हैं जो कुछ समय के लिए तो राहत दे देंगें लेकिन, हमेशा के लिए नही।
लेकिन हमें ज़रुरत है इलाज़ की एक ऐसे इलाज़ की जो हमें इससे बाहर निकाल सके। कुछ तो ऐसा होगा जो हमे चाहिए और इसके लिए जरुरी है कि हमें इस दर्द को समझना होगा।
इसलिए होता क्या है कि जब हम किसी ख़ास के साथ समय बिताते हैं तो हमारा दिमाग उन सभी उसके साथ बितायी यादों को याद रखता है अब जब वह इंसान हमसे दूर चला जाता है तो हमारा दिमाग उसी के साथ बितायी हुई यादों को हमारे रोज़ की ज़िन्दगी में याद करने की कोशिश करता है।
अगर किसी को लाल ड्रेस पहने हुए देख लिया तो याद आ जाता है कि उसपर लाल ड्रेस बहुत अच्छी लगती थी।
किसी को रस्टॉरंट में या कैफ़े में देख लिया तो वही पर उसके साथ बिताये पल याद आ जाते हैं।
www.lovesitzone.in






इसलिए आपको पता भी नही चलता कि कब आपका दिमाग आपकी बितायी हुई पुरानी यादों को जोड़ना शुरू कर देता है जिसकी वजह से आप उसको और ज्यादा याद करना शुरू करते हो और खुद को दर्द देते हो। यह जो दर्द है न इसमें हमारा दिमाग बिलकुल अंतर नही समझता मतलब हड्डी टूटी या ब्रेकअप हुआ, चिंता हुई या चोट लगी दिमाग के सभी एक जैसे हिस्से एक्टिवेट हो जाते हैं, जिसकी वजह से आपको बुरा लगता है, चिड़चिड़े होते हो, खुद को तकलीफ देते हो और दूसरों को भी। दोस्तों यह बात हो गयी की दिल टूटने पर दर्द क्यों होता है अब बात करते हैं इसके सोल्युशन की।

अपने दोस्तों, साइंस में कुछ लाइन सुनी होंगी कि
"Energy can neither be Create
Nor Be Destroy".
मतलब:- (ऊर्जा ना ही बनाई जा सकती है और
ना ही खत्म की जा सकती है।)
यह सिर्फ ट्रान्सफर की जा सकती है। इसको सिर्फ हम एक सही दिशा दे सकते हैं।
पहले आपको समझना है कि ऐसा क्या कारण है कि जिसकी वजह से आप परेशान हो। पहले आपको जितना रोना है, रो लो।
लेकिन उसके बाद उस इंसान की डायरी में ऐसी चीज़ें लिखिए जो आपको अच्छी लगती हो और ख़राब।
उन बातों में से अगर अगर आपको उनका हंसना अच्छा लगता था तो उसका हल हम ढूंढ़ेंगें। मुझे कभी अकेलापन नही लगता था तो, उसकी ज़रुरत थी मुझे। इसका कारण यही है कि हम उनके उपस्थिति के होने का एहसास करते हैं कि उनकी ज़रुरत थी मुझे, वही समझती थी मुझे और भी बहुत कुछ। इसका मतलब आपको वह इंसान नही चाहिए बल्कि वो लोग चाहिए जो आपको सुन सकें और समझ सकें।
और दोस्तों अगर ढूंढना चाहो तो ऐसे लोग हमारे आसपास बहुत से होते हैं, आपके परिवार या दोस्तों में भी हो सकते हैं।
दोस्तों पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके अवश्य बताएं।

No comments:

Post a Comment

Ad